Menu
0 Comments

अपनी इज्‍जत अपने ही हाथ में होती है। लेकिन भोजपुरी फिल्‍म इंडस्‍ट्री वालों को कौन समझाये। आप कोई भी इनका स्‍टेज शो देख लीजिए। कार्यक्रम पेश करनेवालों के अलावा कुछ लोग केवल इसलिए स्‍टेज पर लुक-छिप कर अपना चेहरा दिखाते रहते हैं कि वो भी वीडियो में आ जायें।

अश्‍लीलता से कोसों दूर ‘दहेज दानव’ सेंसर में : भोजपुरी फिल्‍मों के इतिहास में एक नया अध्‍याय

अब देखिए न पिछले दिनों प्रवासी एकता मंच ने एक कार्यक्रम आयोजित किया था, जिसमें कई गणमान्‍य लोगों के अलावा कुछ भोजपुरी इंडस्‍ट्री के लोग भी आमंत्रित थे। मनोज तिवारी को भी इस मंच पर आमंत्रित किया गया था। वो आये भी और कार्यक्रम का हिस्‍सा भी बने।

लेकिन हुआ ये कि मनोज तिवारी जब स्‍टेज पर आये तो भोजपुरी इंडस्‍ट्री के काका भी उनके पीछे आकर खड़े हो गये। जाहिर है, उनका सलीका किसी को अच्‍छा नहीं लगा। तभी दर्शकों में से किसी ने मनोज तिवारी को इशारा कर दिया। उन्‍होंने पलटकर पीछे देखा तो वहां काका नजर आये। मनोज ने आव देखा न ताव, काका को तुरंत दूर हटा दिया। अब जरा सोचिए, कितना सम्‍मान बढ़ा इससे। कितना नाम हो गया…।

याद रहे, इस कार्यक्रम में अरविंद अकेला कल्‍लू, निशा पांडेय जैसे कुछ लोगों को भी आमंत्रित किया गया था, जिस पर अश्‍लीलता विरोधी लोगों ने सख्‍त आपत्‍ति जाहिर की थी।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!