Menu
0 Comments

सुनिए, 18 लाख का चेक बाउंस होने के मामले में खेसारी सफाई में क्‍या कह रहे हैं

भोजपुरी फिल्मों के हीरो खेसारी लाल ने मीडिया में आकर अब उस मामले में अपनी सफाई पेश की है, जो इन दिनों चारों ओर चर्चा का विषय बना हुआ है। दरअसल बिहार के छपरा जिला के एकमा में रसूलपुर थाना क्षेत्र के धानाडीह गांव के निवासी खेसारीलाल यादव पर 18 लाख रुपये का चेक बाउंस होने का मामला दर्ज कराया है। जिन्‍होंने मामला दर्ज कराया है, वो असहनी गांव के निवासी श्रीकृष्ण पांडेय के पुत्र मृत्युंजय नाथ पांडेय हैं।

प्राथमिकी में पांडेय ने कहा है कि उन्‍होंने अपनी जमीन का सौदा 22 लाख सात हजार रुपये में तय किया था और उसकी रजिस्ट्री चंदा देवी पति शत्रुघ्‍न कुमार उर्फ खेसारीलाल यादव के नाम एकमा स्थित निबंधन कार्यालय में 04 जून 2019 को कर दी गयी। खेसारी लाल ने बैंक ऑफ बड़ौदा का अठारह लाख रुपये का एक चेक (चेक संख्या 000451 पर) दिया और बाकी रकम बाद में देने का भरोसा दिलाया! लेकिन 20 जून 2019 को जब बैंक में उक्त चेक को जमा किया गया तो 24 जून को वह बाउंस होकर वापस आ गया।

बैंक कर्मियों के कहने पर पांडेय ने उक्त चेक को दुबारा 27 जून को अपने बैंक खाते में जमा किया, पर 28 जून को भी चेक बाउंस हो गया। पांडेय का कहना है कि अंततः मानसिक रूप से परेशान होकर उन्‍हें खेसारी लाल को कानूनी नोटिस भेजनी पड़ी। लेकिन खेसारी लाल ने उसका जवाब ही नहीं दिया। आखिरकार पांडेय को थक-हारकर उक्‍त जमीन के कागजात व चेक मेमो की छाया प्रति संलग्न करते हुए रसूलपुर थाने में प्राथमिकी दर्ज कराते हुए न्याय की गुहार लगाने के लिए मजबूर होना पड़ा।

हालांकि चेक बाउंस मामले में खेसारी लाल यादव का यही कहना है कि उनके खाते में सत्तर लाख से ऊपर रुपये हैं, इसलिए चेक बाउंस होने का सवाल ही नहीं पैदा होता। उन्‍होंने जानबूझकर उस भुगतान को रोका है और भुगतान रोना कोई आपराधिक काम नहीं है, जो उनके खिलाफ एफआईआर कराया गया है। जरा सुनिए कि खेसारी इस बारे में और क्‍या- क्‍या सफाई दे रहे हैं-

Tags: , ,
error: Content is protected !!