शिखा मिश्रा के बाद अब निशा पांडेय ने संजय भूषण पटियाला की खोली पोल

फिल्‍म ‘पटना वाले दुल्‍हनिया ले जायेंगे’ की दो हीरोइनों कल्पना शाह और गुंजन पंत के बीच रोल और पब्‍लिसिटी को लेकर शुरू हुई जंग अब त्रिकोणीय हो चुकी है और ये तीसरा कोण कोई और नहीं, बल्‍कि भोजपुरी फिल्‍मों का एक तथाकथित पीआरओ संजय भूषण पटियाला है।

कल गुंजन पंत ने फेसबुक पर लाइव होकर कल्‍पना शाह के खिलाफ कई आरोप लगाये थे तो आज कल्‍पना शाह ने गुंजन के आरोपों का जमकर जवाब दिया।

https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=1521213554672108&id=100003504338975

कल्‍पना शाह ने खुलकर कहा कि ये सारा खेल संजय भूषण पटियाला खेल रहे हैं। गौरतलब है कि कल्‍पना ने पुलिस में गुंजन पंत के खिलाफ जो आरोप पत्र दायर किया है, उसमें संजय भूषण पटियाला को भी पार्टी बनाया है।

सूत्रों की मानें तो संजय भूषण पटियाला की भूमिका बेहद संदिग्‍ध रही है। पहले से ही लोग उनके बारे में दबी जुबान में अलग-अलग तरह की बातें कर रहे थे, मगर अब तो खुलेआम कहने लगे हैं।

पिछले सप्‍ताह संजय भूषण ने जब मुंबई के एक पत्रकार धनंजय सिंह को फेसबुक पर अभद्र बातें कही थीं तो खूब हंगामा हुआ था। उसी समय पवन सिंह के साथ ‘धड़कन’ जैसी फिल्‍म में काम कर चुकी शिखा मिश्रा जैसी सम्‍मानित अभिनेत्री ने सार्वजनिक तौर पर कहा था कि जब वो नयी नयी आयी थीं, तो संजय भूषण पटियाला उन्‍हें बार बार कलिंगा रेस्‍टोरेंट में मिलने को बुला रहा था। शिखा जब इसके लिए तैयार नहीं हुईं तो संजय उनके बारे में उल्‍टी-पुल्‍टी बातें करने लगा था। शिखा ने यहां तक कहा था कि आज भी उनके पास वो चैटिंग मौजूद है, जिसमें संजय भूषण ने उनके साथ बदतमीजी की थी।

उसी प्रकरण में ये भी बात सामने आयी थी कि संजय भूषण पटियाला अपनी उन हीरोइनों के बारे में भी आपत्‍तिजनक कमेंट करते हैं और वो भी सार्वजनिक तौर पर। संजय भूषण का फेसबुक इस बात का गवाह है।

सबसे अहम बात ये है कि आज जब फेसबुक पर अपना पक्ष रखने के लिए कल्‍पना शाह लाइव हुईं और उन्‍होंने संजय भूषण पर आरोप लगाया तो निशा पांडे ने भी खुलकर कल्‍पना का  समर्थन किया। निशा ने संजय भूषण के बारे में कहा कि ये खुद तो कुछ है नहीं, सिर्फ फालतू काम करता है। असल में इसका कुछ और ही बिजनेस है और ये सबको पता है। इसने मिसअंडरस्‍टैंडिंग का मिसयूज किया है। ये सब भूषण जी का किया धरा है। भूषण जी ने तो मुझे भी ऑफर दिया था हीरोइन बनाने के लिए।

दरअसल, पीआरओ का पद बड़ा सम्‍मानित होता है। संजय भूषण के कारनामे देखकर तो यही लगता है कि ये इंसान उस काम के लायक नहीं है। भोजपुरी इंडस्‍ट्री को इस बारे में 100 बार सोचना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *