लेखक-निर्देशक राजेश कुमार ने ऐसे किया अपनी पहली हिंदी फीचर फिल्‍म ‘मेरा सनम सबसे प्‍यारा है’ का मुहूर्त


पिछले दिनों लेखक-निर्देशक राजेश कुमार की पहली हिंदी फिल्‍म ‘मेरा सनम सबसे प्‍यारा है’ का मुहूर्त पटना के हनुमान मंदिर में संपन्‍न हो गया। मुहूर्त की रस्‍म उन्‍होंने हमेशा की भांति इसी मंदिर में अपने निर्माता मित्रों और शुभचिंतकों के साथ भगवान शिव व हनुमान जी की पूजा-अर्चना के साथ अदा की।

वैष्‍णवी फिल्‍म्‍स क्रिएशन मॉल के बैनर तले बननेवाली राजेश कुमार की इस फिल्‍म की कहानी वर्तमान परिदृश्‍य को ध्‍यान में रखकर लिखी जा रही है।

पूर्व में ‘लाल’ जैसी साफ-सुथरी पारिवारिक फिल्‍म का निर्माण कर चुकीं निर्मात्री नीता कुमारी की इस निर्माणाधीन फिल्‍म की पटकथा अभी लिखी जा रही है। लेखक-निर्देशक राजेश कुमार ही इसके कथा-पटकथा लेखक भी हैं। कलाकारों के चयन की प्रक्रिया लेखन का कार्य संपन्‍न होने के बाद पूरी की जायेगी।

इसके संगीतकार डॉ. चंदन सिंह हैं, जिन्‍होंने राजेश कुमार की पिछली दोनों फिल्‍मों ‘लाल’ और ‘दहेज दानव’ में सुमधुर संगीत देकर चारों ओर खूब तारीफ बटोरी थी।

राजेश कुमार के अपने कुछ उसूल हैं और वो उन्‍हीं उसूलों पर चलना पसंद करते हैं। वो कतई नहीं चाहते कि मनोरंजन के नाम पर ऐसी चीजें परोसी जायें, जो देश और समाज के हित में नहीं हो। राजेश कुमार को अश्‍लील और अपराध को महिमामंडित करनेवाली फिल्‍में बनाकर पैसा कमाना अपने उसूलों के खिलाफ लगता है। उनका मानना है कि फिल्‍में वही बनायी जानी चाहिए, जिनसे स्‍वस्‍थ मनोरंजन के साथ ही समाज में एक सकारात्‍मक संदेश जाये। कुछ भी बनाकर पैसा कमाना एक अच्‍छे मेकर का मकसद कभी नहीं हो सकता।