रितेश राय ने बताया कि कैसे उनके साथ कुमार विकल ने धोखाधड़ी की है

कहते हैं, भरोसे की डोर बहुत नाजुक होती है। एक बार टूट जाती है तो दोबारा जुड़ती नहीं है। कुमार विकल ने भी कई लोगों का भरोसा तोड़ा है। उनमें से एक हैं रितेश राय, जिन्‍होंने कुमार विकल के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज करा रखी है और उस आधार पर दिल्‍ली की कोर्ट में केस भी चल रहा है।

रितेश ने 20 जनवरी 2018 को दिल्‍ली के बिकासपुरी थाने में जो शिकायत दर्ज करायी है, उसमें उन्‍होंने अपनी पूरी कहानी बयान की है कि कैसे कुमार विकल ने उनसे 2 लाख रुपये कर्ज के तौर पर लिये और बाद में देने से मना कर दिया।

अपनी शिकायत में रितेश ने कहा है कि आम्रपाली फिल्‍म्‍स के डायरेक्‍टर कुमार विकल से उनका परिचय फेसबुक के माध्‍यम से हुआ। चूंकि कुमार विकल पहले भोजपुरी के बड़े सितारों को लेकर फिल्‍म बना चुके थे, इसलिए रितेश को उन पर यकीन आ गया और उन्‍होंने उनके साथ फिल्‍म करने में दिलचस्‍पी दिखायी। कुमार विकल ने भी रितेश को निराश नहीं किया और अपनी फिल्‍म में उन्‍हें मौका देने की बात कही।

पुलिस में दर्ज शिकायत के अनुसार दोनों के बीच बातचीत का सिलसिला चलते 6 महीने बीत चुके थे कि एक दिन कुमार विकल रितेश के दिल्‍ली स्‍थित घर पर पहुंच गये। वहां इन दोनों के बीच काम को लेकर बात हुई और कुमार विकल ने रितेश को ‘कहीं कोई है’ नामक फिल्‍म में काम देने का वादा किया और उसी समय दोनों ने इस आशय का एग्रीमेंट भी साइन कर लिया। यह 17 जुलाई 2016 की बात है। एग्रीमेंट साइन करने के एक महीने बाद 13 अगस्‍त 2016 को एक बार फिर कुमार विकल अपने साथ करण सिंह और सचित को लेकर रितेश राय के घर पहुंच गये और उनसे यह कहकर 2 लाख रुपये कर्ज के तौर पर मांगा कि वो आर्थिक तंगी से गुजर रहे हैं और अगले चार महीनों के अंदर वो दो लाख की जगह तीन लाख उन्‍हें लौटा देंगे। कुमार विकल ने ये भी कहा कि चूंकि वो उनके साथ ‘कहीं कोई है’ में काम कर रहे हैं, इसलिए वो सहकर्मी हो गये और इस लाइन में लोग एक दूसरे की मदद करते ही हैं।

कुमार विकल की धोखाधड़ी : मुहूर्त पर मुहूर्त, पर फिल्म एक भी नहीं बन पा रही है, आखिर क्यों?

शिकायत पत्र के अनुसार कुमार विकल ने रितेश से कहा कि वो उनपर यकीन रखें। आखिरकार कुमार विकल की बातों का भरोसा करके रितेश राय ने उन्‍हें 13 अगस्‍त 2016 को 2 लाख रुपये कर्ज के तौर पर दे दिये। रितेश का कहना है कि उन्‍होंने इतनी बड़ी रकम इसलिए दे दी, क्‍योंकि कुमार विकल ने उन्‍हें बातों-बातों में यकीन दिला दिया कि वो जल्‍दी ही ‘कहीं कोई है’ की शूटिंग शुरू कर देंगे। लेकिन पैसे मिल जाने के बाद कुमार विकल ने उस प्रोजेक्‍ट को रद्द कर दिया, क्‍योंकि वास्‍तव में इस तरह का कोई प्रोजेक्‍ट था ही नहीं उनके पास।

अपने शिकायतनामे में रितेश आगे कहते हैं कि उनकी ही तरह करियर शुरू करने के लिए परेशान दूसरे नये कलाकारों को फांसने के लिए कुमार ने अगली फिल्‍म ‘सन्‍नाटा’ शुरू कर दी। इसकी लॉन्‍चिंग पार्टी में रितेश भी शामिल हुए। उस पार्टी में एक बार फिर कुमार विकल ने रितेश को अपनी अगली फिल्‍म में काम देने का वादा किया, जो हमेशा की तरह झूठा ही निकला।

बहरहाल, चार महीने बाद रितेश ने जब किये गये वादे के अनुसार कुमार विकल से तीन लाख मांगने शुरू किये तो कुमार उन्‍होंने रितेश को नजरअंदाज करना शुरू कर दिया। अंतत: जब रितेश को एहसास हो गया कि कुमार विकल की मंशा सही नहीं है और वो पैसे लौटाना ही नहीं चाहते तो उन्‍होंने पुलिस में शिकायत दर्ज करा दी। शिकायत में इस बात का भी उल्‍लेख किया गया है कि कुमार विकल ने न तो रोल दिया और न ही पैसे, लेकिन रितेश पर फर्जी केस दायर करने की भी धमकी दी थी।

फिलहाल, प्राप्‍त खबरों के अनुसार मामला अदालत के विचाराधीन है। दोनों पक्षों में कौन कितना सही है या गलत, ये तो अब कोर्ट ही निश्‍चित करेगा, लेकिन कुमार विकल को चाहिए कि वो रितेश के साथ मिल-बैठकर इस मामले का निपटारा कर डालें। जब एक ही इंडस्‍ट्री में रहना है तो रिश्‍तों को खराब करना किसी भी नजरिए से सही नहीं है। इससे लोगों का एक दूसरे के प्रति विश्‍वास कम होता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!