रानी नहीं रहीं अब दर्शकों की ‘दिलबर जानी’ : निराशाजनक कलेक्‍शन सबूत है इसका

भोजपुरी की हालिया रिलीज फिल्‍मों के कलेक्‍शन से अब एक बात साफ हो गयी है कि भोजपुरी सितारों को देखने के लिए चाहे जितनी भी भीड़ थियेटर के बाहर जमा हो जाये, लेकिन इनकी फिल्‍म देखने थियेटर में जानेवालों की संख्‍या अब बहुत कम रह गयी है। यहां तक कि ये लोग सिनेमा थियेटर में जब अपनी किसी फिल्‍म का प्रमोशन करने जा रहे हैं, तब भी वहां बाहर भारी भीड़ होती है, लेकिन थियेटर में कुर्सियां खाली पड़ी रहती हैं।

पिछले हफ्ते रिलीज दोनों ही फिल्‍मों ‘सनकी दरोगा’ और ‘मुन्‍ना मवाली’ के साथ यही देखने को मिला। यहां तक कि इनके जाने से टिकट खिड़की पर भी कोई असर नहीं पड़ रहा है।

बहरहाल, इस सप्‍ताह निर्माता राजेश सिंह की बाली के निर्देशन में बनी रानी चटर्जी, पाखी हेगड़े, मोनालिसा, विराज भट्ट की एक अटकी हुई फिल्‍म ‘रानी दिलबरजानी’ रिलीज हुई है, जिसे देखने के लिए दर्शक न के बराबर ही गये। छोटे सिनेमाघरों का कलेक्‍शन तो इतना खराब रहा है कि पूछिए मत। तकरीबन 20-25 सिनेमाघरों में यह रिलीज हुई है, लेकिन इसके कलेक्‍शन से यही लगता है कि इसका डिजिटल कॉस्‍ट भी निकल पाना मुश्‍किल ही है।

बहरहाल इसका आज के नून शो का कलेक्‍शन इस प्रकार रहा-

नूतन, सीतामढ़ी     2920 नेट

संगीत, मोतीहारी    2400 नेट

नेशनल, हाजीपुर    2160 नेट

पैराडाइज, गया     2080 नेट

बाकी के थियेटरों का क्‍या नाम गिनाया जाये। तकरीबन हर जगह सात-आठ सौ से लेकर एक हजार तक का ही कलेक्‍शन रहा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!