Menu
0 Comments

 

महिलाओं को जो मान-सम्‍मान भारतीय सभ्‍यता-संस्‍कृति में प्राप्‍त है, वह अन्‍यत्र दुर्लभ है। तभी तो शास्त्रों में लिखा है-

यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता:।

यत्रैतास्तु न पूज्यन्ते सर्वास्तत्रफला: क्रिया।।

इस श्लोक का अर्थ यही है कि जहां स्त्रियों का सम्मान होता है,  देवी-देवता वहीं निवास करते हैं। जिन घरों में स्त्रियों का अपमान होता है, वहां सभी प्रकार की पूजा करने के बाद भी भगवान निवास नहीं करते।

दरअसल, नारी शक्‍ति स्‍वरूपा है और उसके शक्‍ति स्‍वरूप की संपूर्ण भारत वर्ष में प्रतिदिन पूजा होती है। नारी के प्रति उसी सम्‍मान को दर्शाने के लिए हर साल 8 मार्च को अंतर्राष्‍ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है। कल उसी शुभ अवसर पर केशव प्रोडक्‍शन हाउस प्रा. लि. ने मुंबई के कुबेर स्‍टूडियो में एक गीत की रिकॉर्डिंग के साथ एक भक्‍तिप्रधान फिल्‍म का शुभारंभ किया, जो एक विलक्षण महिला भक्‍त कमला देवी कांकनी उर्फ मौसी जी की जिंदगी पर आधारित है।

दरअसल, कोलकाता निवासी मौसी जी खाटू श्‍याम जी की अनन्‍य भक्‍त हैं और वो हमेशा उनकी भक्‍ति में ही लीन रहती हैं। हर दिन वो अपने हाथों से अपने श्‍याम की एक मूर्ति को सजाती-संवारती हैं और किसी श्‍याम प्रेमी को प्रदान कर देती हैं। भक्‍ति के रंग में सराबोर मौसी जी से जुड़ी सबसे विलक्षण बात ये है कि पति के देहावसान के बाद ही उन्‍होंने अन्‍न और फल का हमेशा के लिए परित्‍याग कर दिया। आज उस घटना को घटे 55 साल हो चुके हैं, मौसी जी ने न तो अन्‍न का एक टुकड़ा खाया और न ही फलाहार करती हैं। बस पानी और तीन वक्‍त की चाय लेती हैं, वो भी बर्फ डालकर। खाटू श्‍याम जी में अटूट आस्‍था रखनेवाली मौसी जी आज खुद लाखों लोगों की आस्‍था और विश्‍वास की प्रतिमूर्ति बन चुकी हैं।

प्रह्लाद अग्रवाल, मुकेश अग्रवाल एवं श्‍वेता अग्रवाल जी मौसी जी के परम श्रद्धालु हैं, जो उनके परम पावन जीवन पर फिल्‍म ‘खाटू श्‍याम भक्‍त मौसी जी’ का निर्माण कर आस्‍था और अनुराग का एक जीवंत उदाहरण प्रस्‍तुत कर रहे हैं। फिल्‍म के निर्देशन की बागडोर बालकृष्‍ण सिंह के हाथों में है। राजेश सिंह, धर्मेश मिश्रा, काम्‍या पांडेय, वैशाली श्रीवास्‍तव, तनुभा रानी, अमित सिंह, अरविंद तिवारी, राज बहादुर राय आदि इसके प्रमुख कलाकार होंगे। इसे लिखा है अशोक सोनकर ने। गीत विजयालक्ष्‍मी मिश्रा के और संगीत के. रत्‍नेश का है। कैमरामैन युधिष्‍ठिर बेहरा हैं। शूटिंग का शुभारंभ अगले सप्‍ताह से जयपुर में किया जायेगा, जहां खाटू श्‍याम जी का मेला लगा हुआ है। वहां पांच-छह दिन की शूटिंग करने के बाद शेष शूटिंग होली के बाद सीतापुर में की जायेगी।

-एस.एस.मीडिया डेस्‍क   

Tags: , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!