मां-बेटे के संबंधों के एक नये पहलू को उजागर कर रही है पुरुआ की ‘टीस’

भोजपुरी के लिए रचनात्‍मक कार्य करने में संलग्‍न ‘पुरुआ’ ने एक और लघु फिल्‍म ‘टीस’ बनायी है। रोहित पांडेय के निर्देशन में बनी इस फिल्‍म की कथा-पटकथा कुणाल भारद्वाज ने लिखी है। संबंधों पर आधारित इस फिल्‍म के प्रमुख कलाकार  हैं- वीणा वादिनी चौबे, अभिजीत राजपूत, परंतप और कुणाल भारद्वाज। दरअसल मानव जीवन संबंधों पर टिका हुआ है और संबंध, मूल्यों व स्वार्थों पर…खासकर पारिवारिक परिप्रेक्ष्य में।
परंतु एक संबंध ऐसा है, जो समस्त मानवीय मूल्यों व स्वार्थों से परे मात्र संवेदनाओं, भावनाओं और त्याग-प्रेम पर आधारित होता है और वह संबंध है – अपनी संतान के प्रति एक माँ का प्‍यार,  जो निर्विकार भाव से सदैव अपने बच्चे के भविष्य को संवारने लिए ही समर्पित रहती है, अपना निजी जीवन बोलकर कुछ भी नहीं रह जाता है, उसके लिए। आगे चलकर बच्चा बड़ा होता है, परंतु ऐसी कौन सी बात है कि उसे अपनी माँ की तपस्या व त्याग दिखाई नहीं देता और माँ के हिस्से में केवल बच्चे की उपेक्षा ही आती है। लेकिन जब मां एक दिन नहीं रहती है, तो परत दर परत उसे माँ के त्याग का पता चलता है, उस माँ का, जिसका हमेशा ही उसने अनादर किया, घोर उपेक्षा की। परंतु, अब उसके पास पश्चाताप के अतिरिक्त कुछ भी नहीं रह जाता है और रह जाती है, तो मात्र मर्मान्तक “टीस …”।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!