‘मां तुझे सलाम’ सुपर-डुपर हिट, फिर भी 15 लाख का घाटा होने का अंदेशा

भोजपुरी फिल्‍म इंडस्‍ट्री उस भूलभुलैया का नाम है, जहां हर कोई कन्‍फ्यूज रहता है। किसी को कुछ भी क्‍लियर नहीं समझ में आता। जी हां, यही एक ऐेसी इंडस्‍ट्री है, जहां फिल्‍म कहने को सुपर हिट होती है, लेकिन घाटा एक करोड़ का होता है। दिनेश लाल यादव की निरहुआ का वो बयान याद है न, जो उन्‍होंने मलेशिया में हुए एवॉर्ड शो के दौरान दिया था। निरहुआ ने अपनी फिल्‍म का नाम लिये बगैर कहा था कि हमारे सामने ऐसा प्रोड्यूसर भी बैठा है, जो ढाई करोड़ लगाकर भी एक करोड़ का घाटा सहने की ताकत रखता है। जाहिर है कि उनका इशारा उनके भाई प्रवेश लाल यादव की ओर था।

अब पवन सिंह की ‘मां तुझे सलाम’ को देख लीजिए। बहुत ही शानदार ओपनिंग इसे मिली थी। उस समय यहां तक कहा गया कि एक लंबे अर्से बाद किसी फिल्‍म की इस तरह की ओपनिंग देखने को मिली है। इतना ही नहीं, 15 अगस्‍त तक इसने जबर्दस्‍त बिजनेस भी किया। कई सिनेमाघरों में इसके द्वारा इतिहास रचे जाने की भी खबर मीडिया में आयी।

लेकिन 16 अगस्‍त से न जाने क्‍या हुआ कि इसका कलेक्‍शन जबर्दस्‍त गिरना शुरू हो गया। ऐसा क्‍यों हुआ, इसका कारण किसी को समझ में नहीं आ रहा है। यहां तक कि ट्रेड के जानकार भी इस गिरावट का आंकलन नहीं कर पा रहे हैं।

सूत्रों के अनुसार कलेक्‍शन में आयी इस गिरावट के बाद इसके बिहार-झारखंड वितरक ने खुद संभावना जतायी है कि अगर ये गिरावट ऐसी ही बनी रही तो, उसकी वजह से उसे 15 लाख तक घाटा उठाना पड़ सकता है।

अब जरा सोचिए- निरहुआ की ‘बॉर्डर’ को तो सुपर हिट ही कहा गया था, जबकि ‘मां तुझे सलाम’ को तो सुपर-डुपर हिट माना जा रहा है। लेकिन घाटा दोनों फिल्‍मों को होने की बात कही जा रही है। अब आप ही बताइये कि इस पृथ्‍वी पर कहीं है ऐसी कोई इंडस्‍ट्री, जहां फिल्‍म सुपर-डुपर हिट हो, फिर भी उससे घाटा होता हो? जवाब साफ है। दोनों बातों में से कोई एक बात झूठी है। या तो फिल्‍म सुपर-डुपर हिट नहीं हुई है, केवल उसे सुपर हिट कहकर प्रचारित किया जा रहा है या फिर कलेक्‍शन में धोखाधड़ी की जा रही है।

सवाल ये है कि ये समस्‍या दूर कब होगी? आखिर दूसरी इंडस्‍ट्री की तरह यहां भी टिकटों की ऑनलाइन बिक्री कब शुरू होगी, ताकि लोगों का भ्रम दूर हो?

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!