Menu
0 Comments

 

किसी भी कलाकार का अपने निर्माताओं के साथ सही व्‍यवहार न करना उसके लिये ही बहुत महंगा साबित होता है। पवन सिंह को इस बात का जरा भी खयाल नहीं है कि इससे उनकी बची-खुची इमेज लगातार खराब हो रही है।

बात 5 जनवरी की है। रांची के पर्ल होटल में जो हुआ है, वो नहीं होना चाहिए। दरअसल, पवन सिंह इन दिनों निर्माता धुपेंद्र भगत और निर्देशक सुजीत की फिल्‍म ‘क्रैक फाइटर’ की रांची में शूटिंग कर रहे हैं, जहां उन्‍होंने अपना जन्‍मदिन भी मनाया।

पवन सिंह की उस जन्‍म दिन की पार्टी में कई लोग मुंबई और पटना से भी तशरीफ ले गये थे। पवन सिंह ने अपने घरवालों को भी फ्लाइट से बुलवाया था। खबरों के अनुसार ‘क्रैक फाइटर’ की शूटिंग लंबे समय तक चलनेवाली थी, सो ‘बॉस’ के सह निर्माता विशाल सिंह भी रांची ही पहुंच गये थे पवन सिंह से मिलने। लेकिन उनका वहां जाने का मकसद उनकी जन्‍मदिन पार्टी में शरीक होना नहीं था। वो तो एक अलग ही मकसद से गये थे।

दरअसल प्रेम राय और विशाल सिंह संयुक्‍त रूप से पवन सिंह को लेकर एक फिल्‍म ‘बॉस’ बना रहे हैं, जिसकी थोड़ी शूटिंग बाकी रह गयी है। अरविंद चौबे इस फिल्‍म के निर्देशक हैं। वही अरविंद चौबे, जिन पर भोजपुरी पी आर ओ अखिलेश ने मनोज तिवारी की नये साल की पार्टी में मारपीट का आरोप लगाया था।

हां तो पवन सिंह से मिलने आये विशाल सिंह के साथ उनके अपने बॉडीगार्ड्स भी थे। खबरों के मुताबिक विशाल सिंह ने पवन सिंह से मिलने के लिए अंदर कमरे में जाने की ख्‍वाहिश जतायी तो ‘क्रैक फाइटर’ के निर्माता धुपेंद्र भगत के बॉडीगार्ड्स ने विशाल सिंह को पवन के कमरे में जाने से मना कर दिया।

विशाल सिंह का कहना था कि वो भी पवन को लेकर फिल्‍म बना रहे हैं, जिसके कुछ हिस्‍से की शूटिंग बाकी रह गयी है। उसी सिलिसले में वो पवन सिंह से बात करना चाहते हैं। लेकिन धुपेंद्र भगत के बॉडीगार्ड्स ने विशाल की एक नहीं सुनी। इस पर विशाल सिंह के बॉडीगॉर्ड्स और धुपेंद्र भगत के बॉडीगॉर्ड्स के बीच कहासुनी शुरू हो गयी। सूत्रों की मानें तो मामला इतना बढ़ गया कि जल्‍दी ही बीचबचाव नहीं किया जाता तो वहां जंग भी शुरू हो जाती। फिर भी सूत्र बताते हैं कि किसी तरह बीच-बचाव कर और सॉरी बोलकर मामले को सुलटा लिया गया। इस तरह की खबरें भोजपुरी सिनेमा के भविष्‍य के लिए कतई सही नहीं है। इनका असर पूरी इंडस्‍ट्री पर पड़ता है।

 

Tags: , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!