Menu
0 Comments

‘बैरी भइले मोरे साजन…’: शैलेंद्र मिश्र का गाया ये विरह गीत दिल को छू जा रहा है

अश्‍लीलता में आकंठ डूबे टुच्‍चे और लुच्‍चे गायक एक तरफ जहां गंदे-गंदे गीत गाकर यू ट्यूब के व्‍यूज बटोरने के चक्‍कर में पड़े हुए हैं, वहीं कई ऐसे भोजपुरिया गायक-गायिका मैदान में कमर कसकर खड़े हैं, जो किसी भी तरह का समझौता करने को तैयार नहीं हैं और वो अश्‍लीलता के विरोध में लगातार श्‍लील गीत गा रहे हैं। मशहूर भोजपुरिया गायक शैलेंद्र मिश्र भी उन्‍हीं लोगों में से एक हैं, जो अपने श्‍लील गीतों से अश्‍लीलता को मुंहतोड़ जवाब दे रहे हैं।

आज उन्‍होंने लल्‍लन देहाती का लिखा और प्रशांत सिंह द्वारा संगीतबद्ध एक विरह गीत ‘बैरी भइल मोर साजन…’ अपने यू ट्यूब चैनल पर रिलीज किया है, जो बड़ा ही खूबसूरत बन पड़ा है। आम गीतों से हटकर हैं इसके शब्‍द और प्रस्‍तुतिकरण भी एक अलग एहसास दिला रहा है। जरा सुनिए….

Tags: ,
error: Content is protected !!