Menu
0 Comments

भोजपुरी भाषा की प्रतिष्‍ठा को अगर किसी ने गिराया है, तो भोजपुरी के गंदे गीतकारों और गायक-गायिकाओं ने। भोजपुरी फिल्‍मों को यदि पोर्न का पर्याय बनाया है तो भोजपुरी के कुछ निर्माता-निर्देशकों और नायक-नायिकाओं ने। यही कारण है कि आज न तो भोजपुरी के गायक-गायिकाओं को समाज में इज्‍जत मिल रही है, न ही नायक-नायिकाओं को ही मान-सम्‍मान मिल रहा है।

कपिल शर्मा के शो को ही देख लीजिए। जब कभी भोजपुरी के तथाकथित गायक-कलाकारों को उस शो में बुलाया गया है, हमेशा भोजपुरी भाषा और स्‍टेज पर मौजूद लोगों का मखौल ही उड़ाया गया है। मजे की बात ये कि कपिल के सामने स्‍टेज पर बैठे भोजपुरी कलाकार मुंह फाड़-फाड़कर हंसते रहते हैं। उन्‍हें लगता ही नहीं कि उनकी तौहीन हो रही है।

अभी हाल ही में दिनेश लाल निरहुआ, खेसारी लाल, आम्रपाली दूबे, रानी चटर्जी आदि को उसी शो में बुलाया गया था। उस शो में केवल रिक्‍शावालों को बुलाकर कपिल ने क्‍या मैसेज दिया, ये शायद इन लोगों को समझ में नहीं आया। किकू शारदा ने भोजपुरी के भौंडे शीर्षक सुना-सुनाकर भोजपुरी का चीरहरण किया और उस पर निरहुआ, आम्रपाली और रानी चटर्जीं ने जिस तरह दांत दिखाया, वो असह्य था। रानी चटर्जी को आपने देखा होगी कि वो तब किस तरह उछल पड़ीं, जब किकू ने कहा कि उनके पास एक और फिल्‍म का टाइटल है- ‘भइया गये पगला, भउजी लेगी बदला। भोजपुरी की इमेज को तार-तार करने में अहम भूमिका निभानेवाली रानी ने कहा कि इस फिल्‍म में तो वो काम करेंगी। अब आप समझ सकते हैं कि ‘भउजी के बदला’ की बात सुनकर वो क्‍यों खुश हो गयीं।

बकबकवा स्‍टार खेसारी ने तो और भी सत्‍यानाश कर डाला, जब अपने नाम के बारे में बताना शुरू किया। कपिल हंसते रहे और खेसारी ये बताने की पूरी कोशिश में लगे रहे कि वो कितने गंवार थे और अब किस तरह कपिल के लेवल के स्‍टार बन गये हैं। वो तो अच्‍छा हुआ कि पवन सिंह उस शो में नहीं आये, वर्ना रही-सही कोर-कसर वो पूरा ही कर देते।

Tags: , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!