Menu
0 Comments

भोजपुरी इंडस्ट्री को अकेले अश्लीलता ने ही गर्त में नहीं पहुंचाया है. झूठ, छल, प्रपंच, चार सौ बीसी ने भी इसमें अहम भूमिका निभाई है. बात अगर तथाकथित भोजपुरी पी आर ओज की करें, तो इनमें से ज्यादातर ने अपने स्वार्थों की सिद्धि के लिए झूठ पर झूठ बोला है, दलाली की है और गलत खबरें लिख लिख कर अपने आकाओं को खुश करने का काम किया है.
उदाहरण के तौर पर भोजपुरी पी आर ओ रामचन्द्र यादव की इस रिपोर्ट को देखिए… ये जनाब सफेद झूठ लिख रहे हैं…सिर्फ इसलिए कि इनके आका इनसे खुश रहें. ये कह रहे हैं कि ‘निरहुआ चलल लंदन’ कड़ाके की ठंड के कारण रिलीज नहीं की गयी है, जब कि कल तक इस फिल्‍म के हीरो दिनेश लाल निरहुआ और हीरोइन आम्रपाली दूबे, दोनों ही सोशल मीडिया में लाइव होकर चिल्ला चिल्लाकर कह रहे थे कि फिल्‍म 25 जनवरी को रिलीज होने जा रही है. दर्शक उसे देखने थिएटर तक जरूर जाएं.


लेकिन अब जब रिलीज टल गयी है तो रामचन्द्र यादव को कड़ाके की ठंड लगने लगी. सच तो यह है कि इस फिल्‍म को कई लोगों ने मिलकर फाइनेंस किया हुआ है और जब तक उन्हें बिहार से 65 लाख नहीं मिल जाते, तब तक न तो फिल्‍म को आर ओ मिलेगा, और ना ही ये रिलीज होगी. हालांकि इस हफ्ते एक वितरक ने काफी जोर लगाया था कि 30-35 लाख में उसे फिल्‍म का बिहार और झारखंड वितरण मिल जाए, लेकिन वो अपने मक़सद में कामयाब नहीं हो पाया और फिल्‍म रिलीज होते होते अटक गयी. हमारे सूत्र अभी भी कह रहे हैं कि रत्नाकर को जब तक 50-55 लाख तक बिहार से नहीं मिल जाते , वो फिल्‍म रिलीज नहीं करेंगे.

मगर रामचन्द्र यादव हैं कि लोगों को ऊल्लू बनाने में जरा भी नहीं हिचक रहे हैं और फिल्‍म की रिलीज टलने का कारण कड़ाके की ठंड बता रहे हैं. ऐसे लोगों को आईना दिखाने के लिए ही हम एक सम्मानित अखबार पटना दैनिक भास्कर की एक खबर का यहां स्क्रीन शॉट दे रहे हैं, जिसमें कहा गया है कि पिछ्ले 67 सालों में इतनी कम ठंड कभी नहीं पड़ी…
वैसे भी अगर आप उत्तर प्रदेश या बिहार से हैं तो पता कर लीजिए. एक दिन भी इस साल कुहासा नहीं पड़ा है वहां. लेकिन रामचन्द्र यादव हैं कि कड़ाके की ठंड से मुंबई में ठिठुर रहे हैं…हे भोजपुरी के महान पी आर ओज, अब तो झूठी खबरें देना बंद करो भाई… तुम सभी लोगों की कलई खुल चुकी है…!

Tags: ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!