पवन को ध्‍यान में रखकर बनायी लगती है ‘पवन पुत्र’


वर्ल्‍डवाइड रिकॉर्ड्स की फिल्‍म ‘पवनपुत्र’ का ट्रेलर रिलीज हो चुका है। फिरोज खान इसके निर्देशक हैं। हीरो पवन सिंह और हीरोइन प्रियंका पंडित और प्रियंका रेवारी हैं। इसमें पवन सिंह का डबल रोल दिख रहा है। पूरे ट्रेलर में सिवाय मारधाड़ के कुछ खास नजर नहीं आया। हां इसके शीर्षक और संवाद सुनकर ऐसा जरूर लगता है जैसे पवन सिंह को ब्रांड बनाने के इरादे से फिल्‍म बनायी गयी हो।

संवाद में लंका का जिक्र करके पवन सिंह को हनुमान बनाने की कोशिश की गयी है। यानी एक बात साफ है कि पवन सिंह को ध्‍यान में रखकर फिल्‍म लिखी गयी है। सबसे हास्‍यास्‍पद तब लगता है, जब एक सीन में पवन सिंह कहते हैं कि वो बजरंग बली के भक्‍त हैं और उसके अगले सीन में लहंगे के अंदर झांकने की बात करते हुए कहते हैं कि वो हवा का इंतजार कर रहे हैं, क्‍योंकि हवा बहेगी तो ही लहंगा उड़ेगा। एक तरह से पवनपुत्र जैसे पावन नाम के साथ ये एक खिलवाड़ किया गया है। इसके अलावा ट्रेलर में जो गीत हैं, उन्‍हें भी पारिवारिक तो नहीं ही कहा जा सकता।

कुल मिलाकर ‘पवन पुत्र’ का ट्रेलर कितना प्रभावी है, इसका अंदाजा इसी बात से लगा लीजिए कि इस रिपोर्ट के लिखे जाने तक ट्रेलर को रिलीज हुए 9 घंटे हो चुके हैं और अब तक पांच लाख व्‍यूज भी नहीं मिले हैं, जबकि पवन सिंह के कई गाने महज पांच-छह घंटे में मिलियन पार कर जाते हैं।

गीत-संगीत मधुर लगते हैं, लेकिन धुनें पुरानी ही हैं। नयापन नहीं है। हां एक दो संवाद जरूर अच्‍छे बन पड़े हैं, जो पवन सिंह की इमेज को ध्‍यान में रखकर लिखे गये हैं।