‘पटना वाले दुल्हनिया ले जायेंगे’ की दुल्हनिया कल्पना शाह हैं तो प्रचार में गुंजन पंत को अहमियत क्यों?

भोजपुरी फिल्मोंं के भविष्य के साथ किस तरह खिलवाड़ किया जाता है और साथ ही कलाकारों के करियर को कैसे बनाया बिगाड़ा जाता है, जरा उसका तमाशा देखिए। एक जून से बिहार में एक फिल्म रिलीज होने जा रही है ‘पटना वाले दुल्हनिया ले जायेंगे’। इस फिल्म के हीरो किशोर सिंह और हीरोइनों के तौर पर दो नाम दिख रहे हैं- गुंजन पंत और कल्पना शाह के। लेकिन पब्लिसिटी में गुंजन पंत को ही अहमियत दी जा रही है, जैसे वही मुख्य हीरोइन हों। लेकिन क्यों?
अब जरा इस कहानी के पीछे का खेल समझिए। सूत्रों के अनुसार फिल्म, में प्रमुख किरदार कल्पना शाह ने किया है और अंत में उन्हीं को हीरो ले जाता है, जबकि गुंजन पंत एक तरह से गेस्ट रोल कर रही हैं। उन्होंने बस एक बारिश वाला गीत किया है और वो भी उसी अंदाज में, जिस अंदाज में अक्सर भोजपुरी फिल्मों में बारिश के गीत दिखाये जाते हैं।
अब यहां सवाल ये पैदा होता है कि आखिर ऐसा क्यों किया जा रहा है और कौन करवा रहा है। अंदरूनी सूत्र बताते हैं कि इसमें एक पीआरओ का खेल चल रहा है, जिसका नाम संजय भूषण पटियाला है। वह गुंजन पंत का पर्सनल पीआरओ है, जबकि कल्पना शाह भोजपुरी इंडस्ट्री में होते हुए भी उस पीआरओ को घास तक नहीं डालतीं। बस वही खुन्नस वह पीआरओ निकाल रहा है।
जरा सोचिए, जब गुंजन पंत को पोस्टर में प्रमुखता के साथ दिखाया जा रहा है तो लोग यही सोच कर जायेंगे न कि पटनावाली दुल्हनिया गुंजन हैं, जबकि फिल्म में दुल्हनिया वाला काम कल्पना का है। जाहिर है, दर्शकों के साथ एक तरह का धोखा है यह और इसका असर फिल्म‍ के भविष्य पर पड़ सकता है। लेकिन यह चीज जब फिल्म के निर्माता-निर्देशक को समझ में आये तब तो…।
एक और बात – पोस्टरों पर एक तरह से इसे हिंदी फिल्म ‘दिलवाले दुल्ह निया ले जायेंगे’ (डीडीएलजे)के स्तर की बताने की कोशिश की जा रही है, क्या ये सही है…क्या इससे दर्शकों की उम्मीदें बहुत अधिक नहीं बढ़ जायेंगी, जो फिल्म के हश्र के लिए शायद अच्‍छा नहीं हो।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*