Menu
0 Comments

कहते हैं जो जिस गति से ऊपर उठता है, कई बार उससे भी तेज गति से नीचे आ जाता है। भोजपुरी फिल्‍मों के वितरण की दुनिया में पिछले दिनों एक नाम बड़ा तेजी से उभरा और अब अचानक शांत हो गया है।

सूत्रों की मानें तो दो चार फिल्‍मों का वितरण कर लाखों गंवा चुके उस वितरक का दिमाग अब ठिकाने आ चुका है या यूं कहें कि अब उसे नहीं समझ में आ रहा है कि आगे क्‍या करे।

नाम न बताने की शर्त पर फिल्‍म ट्रेड से ही जुड़े एक खास सूत्र ने बताया कि उस वितरक की मौजूदा स्‍थिति यह है कि अब वो दो बजे के बाद अक्‍सर निरहुआ एंटरटेनमेंट के ऑफिस में हाजिरी बजाते देखा जाता है। इस बीच अगर उसके खुद के ऑफिस में कोई उससे मिलने आ जाता है तो ऑफिस के लोगों को उसे फोन करके बुलाना पड़ता है। हद तो ये कि वो निरहुआ के लिए लोगों से बहसबाजी पर भी उतर जा रहा है।

एक अन्‍य सूत्र कहता है कि अब उस वितरक के पास पैसे नहीं रह गये हैं। सो करे तो क्‍या करे। दिनेश लाल की चमचागिरी में लगा हुआ है, ताकि जब कभी दिनेश की अपनी गैर होमप्रोडक्‍शन वाली फिल्‍म रिलीज हो और उसका वितरण दिनेश यदि खुद नहीं करते हैं तो उसका वितरण वो वितरक करे। अब असली कारण क्‍या है, ये तो वो वितरक ही जाने, लेकिन उसे इतना तो बोध होना ही चाहिए कि ऐसा करना उसके भविष्‍य के लिए अच्‍छा नहीं है।

 

Tags: ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!