Menu
0 Comments

आज की तारीख में भोजपुरी फिल्‍मों में मुजरा देख पाना किसी सपने जैसा हो गया है। कोई भी फिल्‍म देख लीजिए, आइटम सांग्‍स एक की बजाय दो मिल जायेंगे, जिनके शब्‍द तो गंदे होते ही हैं, फिल्‍मांकन तो पूरा पोर्न वाला ही होता है। ऐसे माहौल में लेखक-निर्देशक राजेश कुमार की आज ही रिलीज हो रही फिल्‍म ‘दहेज दानव’ में उनका ही लिखा एक कमाल का मुजरा आप देख सकते हैं, जो शादी के मौके पर फिल्‍माया गया है। खास बात ये कि उस मुजरे को सीमा सिंह जैसी हीरोइन पर फिल्‍माया गया है, वो भी अनारकली में यानी सिर से पांव तक ढंकी हुई हैं, जबकि सीमा सिंह अक्‍सर अधनंगे कपड़ों में ही नजर आती रहती हैं। हां, गीत के शब्‍द रसदार जरूर हैं, लेकिन अश्‍लील नहीं हैं। शादी-ब्‍याह के मौके पर आमतौर से तवायफें जैसे गीत गाती रही हैं, बिल्‍कुल उसी टाइप का है। उसके बोल कुछ यूं हैं – ‘नजरिया के बान नहीं चलावा हमपे राजा जी, लुटा जाई खड़े-खड़े जवनिया ई राजा जी….।’

अखिलेश कुमार और कल्‍पना शाह की मुख्‍य भूमिकाओं वाली इस फिल्‍म के संगीतकार डॉ. चंदन सिंह हैं, जिन्‍होंने फिल्‍म के एक-एक गीत पर जी-जान से मेहनत की है। उनकी मेहनत हर गीत में साफ नजर भी आती है, क्‍योंकि फिल्‍म के सभी गीत कर्णप्रिय बन पडे हैं।

-एस.एस.मीडिया डेस्‍क

Tags: , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!