खेसारी लाल ‘राजा जानी’ रिलीज करने की हिम्‍मत इसलिए नहीं दिखा पा रहे हैं

भोजपुरी फिल्‍मों की बदहाली का आलम यह है कि खेसारी लाल यादव जैसे भोजपुरी के तथाकथित सुपर स्‍टार की फिल्‍म ‘राजा जानी’ के खरीदार नहीं मिल रहे हैं और इस चक्‍कर में फिल्‍म रिलीज नहीं हो पा रही है।

हालांकि हाल ही में खबर आयी थी कि इस फिल्‍म को खुद खेसारी ही 6 जुलाई को रिलीज करेंगे, लेकिन अब जो खबरें आ रही हैं, उनके मुताबिक उक्‍त तारीख पर इस फिल्‍म का रिलीज हो पाना मुमकिन नहीं लग रहा है।

दरअसल, इसके कई कारण हैं। सूत्रों के अनुसार पहला कारण इसका अपेक्ष्‍िात मूल्‍य नहीं मिल पाना है। निर्माता सुरेंद्र प्रसाद और निर्देशक लाल बाबू पंडित अपनी इस फिल्‍म के लिए बिहार से कम से कम 40 लाख की उम्‍मीद कर रहे हैं, जबकि वितरक हैं कि 27-28 लाख से अधिक देने को तैयार नहीं हैं।

दूसरा कारण ये सुनने में आ रहा है कि इसके निर्माता आर्थिक तंगी के कारण अब तक खेसारी लाल के तकरीबन 22 लाख नहीं अदा कर पाये हैं, ऐसे में उनके पास दो ही रास्‍ता बचता है। या तो फिल्‍म अधिक से अधिक कीमत में रिलीज हो ताकि खेसारी को उनकी बकाया रकम देने के पास उनके लिए भी कुछ रकम बच जाये या फिर खेसारी खुद फिल्‍म को रिलीज करें और अपनी रकम निकाल लेने के बाद निर्माता को उसके हिस्‍से की रकम अदा करें।

लेकिन खेसारी लाल के लिए सबसे बड़ी दिक्‍कत ये पेश आ रही है कि उनके पास वितरण का कोई अनुभव नहीं है। साथ ही वो ये भी देख रहे हैं कि वितरण ऑफिस खोलने के बाद दिनेश लाल निरहुआ का कितना बुरा हाल हुआ है। यहां तक कि वो वितरण के चक्‍कर में इतने तनावग्रस्‍त हो गये कि उनका संयम जवाब दे गया और वो एक मानिंद पत्रकार के साथ बदतमीजी कर बैठे और मामला कोर्ट तक पहुंच चुका है। इन्‍हीं कारणों से खेसारी अभी तक ये नहीं समझ पा रहे हैं कि फिल्‍म को किस तरह रिलीज करें।

इंडस्‍ट्री के ही एक अन्‍य सूत्र ने तो यहां तक बताया कि इसकी रिलीज बार-बार इसलिए भी टाली जा रही है कि शायद कोर्इ डिस्‍ट्रीब्‍यूटर मिल जाये। यानी एक बात तो तय है कि भोजपुरी निर्माताओं के लिए फिल्‍में बनाकर उन्‍हें बेचना और बेचकर दो पैसा कमा पाना कोई आसान बात नहीं रह गयी है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!