क्‍यों खेसारी यादव ने कराया चार साल पुराना ऑडियो क्‍लिप अपलोड

भोजपुरी में अश्‍लीलता विरोधी अभियान ने भोजपुरी टॉवर स्‍टार खेसारी लाल यादव को इतना डरा दिया है कि वो चार साल पुराने ऑडियो क्‍लिप की मदद लेने को मजबूर हो गये, लेकिन क्‍यों आइये, हम बताते हैं।

दरअसल, दिनेश लाल द्वारा मुंबई के एक पत्रकार को गाली देने और धमकाने की घटना हो या पवन सिंह की पत्‍नी को लेकर यू ट्यूब पर जारी किया गया ऑडियो क्‍लिप, या फिर खेसारी का फेसबुक पर लाइव होकर टॉवर मार्का भाषण देना, इन सभी घटनाओं ने भोजपुरी के लोगों को हिलाकर रख दिया है। गार्गी पंडित का खेसारी को पीटने की बात कहने की घटना भी कम हैरतअंगेज नहीं रही, ऊपर से अंजना सिंह और निशा पांडे जैसी हीरोइनों के समर्थन ने खेसारी की और भद पिटवा दी।

अब आते हैं खेसारी की उस ऑडियो क्‍लिप पर, जो कल ही यू ट्यूब पर देखने को मिली थी। वास्‍तव में ये ऑडियो क्‍लिप चार-पांच साल पुरानी है, जब एक शादी समारोह में खेसारी को बुलाया गया था, लेकिन वो नहीं आये थे और बदले में युवराज सुधीर सिंह ने खेसारी को उल्‍टा–सीधा कहा था। उसी क्‍लिप को अब यू ट्यूब पर अपलोड किया गया है। जानते हैं क्‍यों और किसने किया है। सूत्रों की मानें तो ये काम खुद खेसारी ने करवाया है।

अंदर के सूत्रों की मानें तो खेसारी इस अभियान को जातिवाद के रंग में रंगकर सरकारी सुरक्षा पाने की फिराक में जी-जान से लगे हुए हैं। वर्ना खेसारी को चार-पांच साल पुराना ऑडियो रिलीज करवाने का कोई मतलब नहीं था…ऊपर से उनके पिता मंगरू यादव की अपील और ये कहना कि उनके बेटे को खतरा है और उसे कुछ होता है तो उसके लिए जिम्‍मेदार प्रभुनाथ सिंह के भतीजे युवराज सुधीर सिंह होंगे, खुद ब खुद साबित कर देता है कि खेसारी सुरक्षा पाने की पृष्‍ठभूमि तैयार कर रहे हैं।

इसके अलावा खेसारी को ये भी एहसास हो चला है कि अब उनके करियर की उल्‍टी गिनती शुरू हो चुकी है, इसलिए वो नेताओं से मेलजोल बढ़ाकर राजनीतिक पार्टी में शामिल होने की फिराक में भी लगे हुए हैं। लेकिन सुधीर सिंह ने सामने आकर खेसारी की साजिश की न केवल पोल-पट्टी खोलकर रख दिया है, बल्‍कि दिनेश और पवन समेत सभी कलाकारों को ये भी बता दिया है कि अब वो उन्‍हें अश्‍लीलता नहीं फैलाने देंगे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!