Menu
0 Comments

समाज में आप जैसा व्‍यवहार करते हैं, लोगों के साथ जिस तरह पेश आते हैं, उसे लोग नोट करते हैं, चाहे आप जीवन में किसी भी मुकाम पर पहुंच जायें। बात यहां दिनेश लाल यादव निरहुआ और पत्रकार शशिकांत सिंह की हो रही है। वही दिनेश लाल, जो इस समय भाजपा के टिकट पर उत्‍तर प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री एवं अपने बेहद करीबी अखिलेश यादव के ही खिलाफ चुनाव लड़ रहे हैं।

मजे की बात तो यह है कि दिनेश लाल खुद अखिलेश यादव के खासमखास रहे हैं, और अखिलेश ने उन्‍हें अपने शासन काल में यश भारती जैसा सम्‍मानित पुरस्‍कार से पुरस्‍कृत किया था। बावजूद इसके दिनेश उनके ही सामने डंटकर खड़े हो गये। जाहिर है कि लोग सकते में हैं, क्‍योंकि दिनेश आज तक अखिलेश के साथ हमेशा खड़े दिखते थे। चुनाव प्रचार भी अखिलेश की समाजवादी पार्टी का ही करते थे, लेकिन न जाने क्‍या खिचड़ी पकी कि वो अचानक अखिलेश के ही विरुद्ध सीना ठोंककर मैदान में उतर गये। वो भी उस पार्टी से, जिसका हमेशा समाजवादी पार्टी से 36 का आंकड़ा रहा है।

समाजवादी पार्टी के समर्थकों के लिए दिनेश का ये फैसला असह्य था। क्‍योंकि अखिलेश भइया को सलाम ठोंकने वाले दिनेश अचानक अखिलेश को ही ललकारने लग जायें और अखिलेश समर्थक चुप बैठें, ये भला कैसे हो सकता था। हुआ भी वही, उत्‍तर प्रदेश के तमाम अखिलेश समर्थक दिनेश के खिलाफ लामबंद हो गये और उन्‍हें न केवल गंदी-गंदी गालियां देनी शुरू कर दी, बल्‍कि मार डालने की धमकी भी देने लगे। एक सभ्‍य समाज में इस तरह की चीजों को जगह नहीं मिलनी चाहिए।

बहरहाल, पिछले दिनों इसी तरह का एक वीडियो यू ट्यूब पर किसी ने अपलोड किया, जिसमें दिनेश लाल को गंदी-गंदी गालियां दी गयी थीं। उस वीडियो का लिंक जब किसी तरह शशिकांत सिंह के पास पहुंचा, तो उन्‍हें बहुत बुरा लगा। उन्‍होंने इस वीडियो की जानकारी सोशल मीडिया में दी और ये भी कहा कि इस तरह की अभद्र गालियां देनेवाले के खिलाफ तुरंत कार्रवाई की जानी चाहिए। उसे गिरफ्तार किया जाना चाहिए।

इससे पहले भी निरहुआ के साथ सोशल मीडिया में हो रही अभद्रता पर प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए शशिकांत सिंह ने एक पोस्‍ट में कहा था – कभी दिनेश जी ने मुझे गाली देने के साथ-साथ घर में घुसकर काट डालने की धमकी भी दी थी। आज दिनेश जी के साथ भी ऐसा ही हो रहा है। फिर भी मैं दिनेश जी को दी जानेवाली गालियों और धमकी की घटना की निंदा करता हूं। मां, मां होती है, चाहे मेरी हो या दिनेश जी की, या गालीबाजों की। सबकी मां एक होती है। मैं चाहता हूं दिनेश जी गाली और धमकी देने वालों के खिलाफ कठोर कदम उठाएं।

उम्‍मीद ही नहीं, बल्‍कि यकीन है कि दिनेश लाल जरूर शशिकांत सिंह की बातों को गंभीरता से लेंगे। लेकिन एक अहम सवाल यहां ये पैदा होता है कि दिनेश इस बारे में अगर गंभीरता से सोचते हैं और उन्‍हें एहसास होता है कि उन्‍होंने शशिकांत सिंह को गाली देकर गलती की थी तो क्‍या वो उसके लिए शशिकांत सिंह से सार्वजनिक रूप से माफी मांगेंगे, जैसे पिछले दिनों उन्‍होंने भोजपुरी फिल्‍मों में अश्‍लीलता फैलाने के लिए खुद को जिम्‍मेदार मानते हुए सार्वजनिक रूप से माफी मांगी थी?

हालांकि दिनेश के लिए ये मौका सही है और इसका फायदा उठाते हुए उन्‍हें बेहिचक माफी मांग लेनी चाहिए। इससे उनकी दागदार छवि को साफ करने में मदद मिलेगी और इसका फायदा उन्‍हें चुनाव में भी मिल सकता है।

Tags: , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!