Menu
0 Comments

क्यों चाहकर भी निर्माता संजय गुप्ता आज खेसारी को लेकर फिल्म नहीं बना पा रहे हैं?

खेसारी लाल ने संजय कुमार गुप्‍ता के साथ सही बर्ताव किया होता तो आज वो निश्‍चित रूप से खेसारी को लेकर फिल्‍म बना रहे होते। संजय गुप्‍ता भोजपुरी इंडस्‍ट्री में अच्‍छी फिल्‍में बनाने का ख्‍वाब लेकर आये थे। लेकिन पहली ही फिल्‍म ‘दीवानापन’ बनाते समय उनका पाला अमित श्रीवास्‍तव जैसे धोखाधड़ी करनेवाले इंसान से पड़ गया, नतीजा संजय गुप्‍ता के मेहनत से कमाये लाखों रुपये पानी में चले गये।

अमित श्रीवास्‍तव ने तो उनके साथ ठगबाजी की ही, खेसारी ने भी फिल्‍म को सही ढंग से प्रमोट नहीं किया। इसका फिल्‍म पर बहुत बुरा परिणाम निकला। 2500 रुपये तो वो हर दिन पेट्रोल मनी लेते थे संजय गुप्‍ता से। बहरहाल, खेसारी ने अगर अपने निर्माता की परवाह की होती और वो अपनी बातों पर सही ठहरे होते तो आज संजय गुप्‍ता के रूप में एक निर्माता इंडस्‍ट्री में टिका रहा होता।

सूत्रों की मानें तो संजय गुप्‍ता की आज भी फिल्‍म बनाने की दिली ख्‍वाहिश है, लेकिन उन्‍हें इंडस्‍ट्री के दलालों से जो दर्द मिला है और भोजपुरी फिल्‍मों का आज जो बुरा हाल है, उसे देखते हुए वो फिल्‍म बनाने की हिम्‍मत नहीं कर पा रहे हैं। फिलहाल वो वेट एंड वॉच की पॉलिसी पर चल रहे हैं। खेसारी की जगह दूसरा कोई समझदार अभिनेता होता तो दूसरी फिल्‍म कम पैसे में करके संजय गुप्‍ता को अपना खास निर्माता बना लेता था। लेकिन खेसारी बस पैसा…पैसा…हाय पैसा करते हुए भागते फिर रहे हैं।

सूत्रों की बातों पर यकीन करें तो खेसारी ने फिल्‍म करते समय वादा किया था कि अगर ‘दीवानापन’ नहीं चली तो वो संजय गुप्‍ता की अगली फिल्‍म कम पैसे में करेंगे ताकि उनके घाटे की भरपाई हो जाये, लेकिन ‘दीवानापन’ रिलीज होने के हफ्ते बाद ही खेसारी ने उनको भुला दिया।

सच तो यह है कि भोजपुरी कलाकारों को आमिर और सलमान खान जैसे सितारों से सबक लेते हुए अपने निर्माताओं का ध्‍यान रखना चाहिए, ताकि उनके पास बार-बार फिल्‍म बनाने की क्षमता बरकरार रहे।

 

Tags: , , ,
error: Content is protected !!