Menu
0 Comments

अश्‍लीलता के अंधे कुएं में गिरी भोजपुरी फिल्‍म इंडस्‍ट्री में एक और फिल्‍म बनकर तैयार हुई है, जिसका नाम परम पावन ‘काशी विश्‍वनाथ’ है। निर्माता एस.एस. रेड्डी की लेखक-निर्देशक सुब्‍बा राव गोसांगी के निर्देशन में बनी इस फिल्‍म के हीरो रितेश पांडेय तो हीरोइन काजल राघवानी हैं। इसके गीत श्‍याम देहाती, अरविंद तिवारी और यादव राज ने लिखे हैं, जबकि संगीत से सजाने का काम किया है ओम झा ने।

पूरा ट्रेलर देखने के बाद यही लगा कि इसकी कहानी में कोई नयापन नहीं है। भोजपुरी की आम फिल्‍मों की तरह इसे भी देखकर यही लगता है कि ये भी केवल नाम के लिए भोजपुरी फिल्‍म है। साउथ का एक्‍शन, बॉलीवुड की स्‍टाइल और अश्‍लीलता भोजपुरी मार्का। बस इससे ज्‍यादा इसमें कुछ नहीं है। कुल मिलाकर एक सस्‍ते टाइप की फिल्‍म है।

हां इसके गीतों में जो अश्‍लीलता परोसी है, उसे देखकर यही कहा जा सकता है कि इसे देखने कोई भी पारिवारिक दर्शक नहीं जायेगा। रही बात सड़कछाप दर्शकों की तो वो रितेश पांडेय की भांडगिरी और काजल राघवानी की नाभि को हजारों बार देख चुके हैं। सच कहा जाये तो ये घटियापन देख देखकर अब दर्शकों को उल्‍टी आने लगी है और कुल मिलाकर भोजपुरी की प्रतिष्‍ठा पर ये भी एक कलंक लगाने वाली ही फिल्‍म साबित होनेवाली है।

भोजपुरी फिल्‍मों के एक पुराने वितरक, जो कई फिल्में बना चुके हैं, कहते हैं कि इसे बस यू ट्यूब पर ही व्‍यूज मिलेंगे। बाकी थियेटर में इस तरह की घटिया फिल्‍म देखने कौन जायेगा,,,कोई नहीं।

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!