Menu
0 Comments

अश्‍लील हीरोइनों ने गाये छठ गीत : आम्रपाली और काजल को दर्शकों ने नकारा

भोजपुरी इंडस्‍ट्री को मंझधार में पहुंचाने वाले हीरो-हीरोइनों का अपना करियर ही मंझधार में फंस चुका है। इसका नजारा तब देखने को मिला, जब छठ का त्‍योहार आया। अचानक अंजना सिंह, अक्षरा सिंह, काजल राघवानी और आम्रपाली दूबे जैसी तुर्रम खान हीरोइनें गायन की दुनिया में कूद पड़ीं।

आपने इस छठ के मौके पर देखा होगा कि अश्‍लीलता को बढ़ावा देने वाली इन सभी हीरोइनों ने अब पारंपरिक रूप से साड़ी पहनकर छठ के गीत गाने शुरू कर दिये हैं। अंजना सिंह ने ‘बहंगी लचकत जाय…’ गीत गाया है, जिसे यू ट्यूब पर अब तक 3 लाख व्‍यूज मिल चुके हैं, जबकि अक्षरा सिंह के गाये गीत ‘छठी की राती कोसी भराता..’ को 40 लाख व्‍यूज मिले हैं।

हवा का रुख देखकर मैदान में कूदीं तथाकथित यू ट्यूब क्‍वीन आम्रपाली दूबे के छठ गीत ‘बान्‍हा पगरिया सइयां पेन्‍हा पियरिया…’ को हालांकि अब तक बमुश्‍किल 60 हजार ही व्‍यूज मिले हैं, लेकिन काजल राघवानी के गीत को आम्रपाली से भी कम ही व्‍यूज मिल पाये हैं। हालांकि खेसारी के फैन्‍स को रिझाने के लिए उन्‍होंने अपने छठ गीत ‘कांचे कांचे बांस क बहंगिया…’ में बलम जी की जगह सीधे-सीधे खेसारी का नाम लेकर गाया है, बावजूद इसके अब तक उसे 19 हजार लोगों ने ही पसंद किया है। हो सकता है कि खेसारी के चाहनेवालों को छठ जैसे पवित्र त्‍योहार पर इस तरह खेसारी का नाम लेकर गीत गाना अच्‍छा न लगा हो।

सवाल ये है कि आखिर ये सभी हीरोइनें अचानक छठ गीत क्‍यों गाने लगीं…जवाब साफ है। जैसा कि ट्रेड का ही एक बंदा कहता है कि अश्‍लीलता विरोधी अभियान और खेसारी पर हो रहे हमलों ने इतना तो इशारा कर दिया है कि अब अश्‍लील चीजों को जनता और बर्दाश्‍त नहीं करेगी। हीरोइनों को ये बात समझ में आ गयी है, इसलिए वो भी अपनी इमेज बदलने में लग गयी हैं।

एक पुराने म्‍यूजिक डायरेक्‍टर कहता है कि इन सभी ने अपने-अपने यू ट्यूब चैनल खोल रखे हैं। बेचारी उसी चक्‍कर में गाये जा रही हैं। इन्‍हें इतना एहसास हो चुका है कि अब इनका खेल साल-दो साल में खत्‍म हो जानेवाला है। इनके परम प्रिय हीरो हमेशा के लिए तो इन्‍हें गले में बांध कर नहीं ही रखेंगे न, क्‍योंकि सभी ने अपनी अपनी अलग गृहस्‍थी बसा रखी है।

इंडस्‍ट्री की एक गायिका तो इनसे काफी खफा है। उसके बयान की इंडस्‍ट्री में खासी चर्चा भी चल रही है। उसने इन सभी हीरोइनों को जमकर कोसा है। कहने का मतलब ये कि हीरोइनों को अपना करियर असुरक्ष्‍िात लग रहा है तो गायिकाओं को अपना। अंजाम क्‍या होगा, ये तो आनेवाला वक्‍त ही बतायेगा।

Tags: , , ,
error: Content is protected !!