Menu
0 Comments

दिनेश लाल यादव निरहुआ ने कुछ महीने पहले एक फिल्‍म के सेट से फेसबुक पर लाइव होकर यह मानते हुए सरेआम माफी मांगी थी कि उन्‍होंने भोजपुरी में अश्‍लीलता को बढ़ावा दिया है, इसलिए वो सभी भोजपुरी समाज से क्षमा चाहते हैं। उन्‍होंने यह भी कहा था कि अब वो कभी न तो दोअथीं संवाद बोलेंगे और न ही दोअर्थी गीतों का अपनी फिल्‍मों में इस्‍तेमाल ही होने देंगे।

लेकिन इस हफ्ते उनकी खासमखास आम्रपाली के साथ जो ‘जय वीरू’ बिहार और झारखंड में रिलीज होने जा रही है, उसमें तो तकरीबन सारे गाने ही दोअर्थी हैं। एक गाने को तो खुद दिनेश लाल ने इंडस्‍ट्री के सबसे गंदे गीत गानेवाली प्रियंका के साथ गाया है और बोल हैं- चुम्‍मा से दिहलू ऊर्जा बॉडी के हिलल पुर्जा…। इस घटिया गीत को आजाद सिंह नामक किसी गंदी मानसिकता वाले ने लिखा है। फिल्‍मांकन भी उसी के स्‍तर का है। और हां, इसके संगीत निर्देशक धनंजय मिश्रा हैं, जो ऊपर से तो अपने को औरों से अलग जताने की कोशिश करते हैं, लेकिन आज तक कहीं ये सुनने में नहीं आया कि उन्‍होंने कभी अश्‍लीलता का विरोध किया हो। हां अश्‍लीलों के पक्ष में आवाज बुलंद करते जरूर कभीकभार नजर आ जाते हैं। और हां, ये भी सुना है कि अश्‍लीलता विरोधियों को सबक सिखाने की भी बात करते हैं।

खैर, वो कहते हैं न कि चोर चोरी से जाये, हेराफेरी से ना। सो दिनेश लाल निरहुआ ने उस समय भले ही माफी मांग ली थी, क्‍योंकि तब उन्‍हें लोकसभा का चुनाव लड़ना था और जनता के सामने अपनी साफ सुथरी छवि को साफ-सुथरी दर्शाना आवश्‍यक था, लेकिन अब जब वो चुनाव में हार कर इंडस्‍ट्री में लौट चुके हैं तो आगे वो क्‍या करेंगे, ये तो आनेवाला वक्‍त ही बतायेगा। लेकिन उनके जाननेवाले बार-बार यही कह रहे हैं कि दिनेश ही नहीं, पवन, खेसारी, रितेश, चिंटू, कल्‍लू आदि सब के सब अश्‍लीलता परोसे बिना चैन से जिंदा ही नहीं रह पायेंगे।

निर्माता नासिर जमाल और इरफान जफर की सुब्‍बा राव गोसांगी के निर्देशन में बनी यह फिल्‍म 28 जून को रिलीज होने जा रही है। जाहिर है कि इतनी अश्‍लील फिल्‍म को देखने महिलायें और स्‍तरीय लोग कदापि नहीं जायेंगे। बाकी जो बचे हैं वो तो जियो से ही काम चला लेते हैं। सो भगवान ही मालिक है इस फिल्‍म का।

Tags: , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!