Menu
0 Comments

 

आज की तारीख में कोई भी भोजपुरी फिल्‍म आप देख लीजिए। दो बातें आपको साफ नजर आयेंगी- एक तो बॉलीवुड की फिल्‍मों की सस्‍ती नकल और दूसरे साउथ की फिल्‍मों जैसे सस्‍ते स्‍तर के स्‍टंट सींस।

कहने का मतलब ये कि इन दो चीजों के बीच भोजपुरी फिल्‍में कहीं खो सी गयी हैं। भोजपुरी के नाम पर बस हीरो-हीरोइन या कुछ किरदार भोजपुरी में बोलते नजर आते हैं। या फिर भोजपुरी में गंदे-गंदे गीत और संवाद सुनने को मिलते हैं, लेकिन लेखक-निर्देशक व गीतकार राजेश कुमार की फिल्‍मों में आप ये सभी चीजें नहीं मिलेंगी।

राजेश कुमार की मां-बेटे के संबंधों पर बनी एक फिल्‍म ‘लाल’ इसी फरवरी में रिलीज होने जा रही है। भोजपुरी पृष्‍ठभूमि पर बनी उनकी इस फिल्‍म में आपको पूरी भोजपुरी संस्‍कृति की खुश्‍बू मिलेगी। गीत-संगीत-संवाद, सभी आपको मधुर और शालीन मिलेंगे। फिल्‍म में उन्‍होंने हर तरह का रंग और रस भरने की कोशिश की है- मसलन कॉमेड़ी, एक्‍शन, इमोशंस आदि सब कुछ । इसमें सीमा सिंह पर एक आइटम गीत फिल्‍माया गया है, जो ‘पाकिजा’ की याद ताजा करा जाता है। कल्‍पना शाहर, संजीव सनेहिया, सीमा शर्मा, साहब लालधारी, जितेंद्र वत्‍स, राहुल श्रीवास्‍तव, रूपा सिंह, पिंकी सिंह, पवन साह, अर्चना आदि इसके प्रमुख कलाकार हैं।

फिल्‍म की निर्मात्री नीता कुमारी इस फिल्‍म के भविष्‍य को लेकर बेहद आश्‍वस्‍त हैं। उनकी यही दिली ख्‍वाहिश है कि उनकी इस फिल्‍म को देखने लोग थिएटर में अपने पूरे परिवार के साथ आयें। नीता कुमारी कहती हैं कि वो एक महिला हैं और महिला होने के नाते अपनी मान-मर्यादा,सभ्‍यता-संस्‍कृति सभी को बखूबी जानती और पहचानती भी हैं। उन्‍होंने अपनी इस फिल्‍म में भी इन सारी बातों का पूरा खयाल रखा है।

 

Tags: , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!