अक्षरा की ये बात सुनकर पवन सिंह का तिलमिला जाना तय

पवन सिंह ने जिस हाल में अक्षरा सिंह को छोड़ा था, वहां से वो अब उबरने लगी हैं। सहयोग के लिए उनके माता-पिता तो हैं ही, रितेश पांडेय का भी गहरा सहयोग अब उन्‍हें प्राप्‍त होने लगा है। तभी तो आजकल पवन सिंह के लिए वो कहती हैं कि यहां कोई किसी का दाता नहीं है। ये बात सुनने के बाद पवन सिंह को निश्‍चित रूप से मिर्ची लगने वाली है।

आपने वो कहावत तो सुनी ही है न कि वक्‍त का मरहम हर घाव को भर देता है। अक्षरा का भी वह घाव भरता जा रहा है, जो पवन सिंह ने उन्‍हें दिया है।  वो चाहती हैं कि अपना ज्‍यादा वक्‍त काम में बितायें, ताकि उनका मन इधर-उधर न भटके। लेकिन मीडिया है कि अक्षरा सिंह से पवन के मुद्दे को छेड़े बगैर मानता ही नहीं।

हाल ही में मीडिया ने जब अक्षरा सिंह से पवन सिंह के मुद्दे को लेकर बात छेड़ी तो वो इधर-उधर की बातें करते-करते ये बोलने के लिए विवश हो गयीं कि कोई किसी का दाता नहीं है यहां। जानते हैं, अक्षरा ने ऐसा क्‍यों कहा…

दरअसल, भोजपुरी इंडस्‍ट्री में एक बात हमेशा कही जाती थी कि अक्षरा सिंह को काम पवन सिंह की वजह से मिलता है। बात में भी सच्‍चाई भी थी। उनकी फिल्‍मों में अक्‍सर वही हीरोइन हुआ करती थीं, लेकिन अब जब पवन सिंह शादी करके उनसे दूर हो चुके हैं तो अक्षरा को उनकी चार फिल्‍मों से निकाले जाने की खबर चर्चा का विषय बनी हुई है।

अक्षरा को पवन सिंह की वजह से काम जरूर मिलता था, ये बात सच है, लेकिन इस सच से भी इंकार नहीं किया जा सकता कि वो एक अच्‍छी अभिनेत्री हैं और उनमें अपनी काबिलियत है। माना कि पवन सिंह ने उन्‍हें मंझधार में छोड़ा है, लेकिन सूत्रों की मानें तो रितेश पांडेय से अक्षरा को पूरा सहारा मिल रहा है। रितेश उनके एलबम में अपनी आवाज तो दे ही रहे हैं, उनके साथ ‘राज राजकुमार’ में काम भी कर रहे हैं। हालांकि ये फिल्‍म एनाउंस तो पहले हुई थी, लेकिन बताया जा रहा है कि रितेश ने इसमें विशेष दिलचस्‍पी लेकर इसे शुरू करवायी है। इतना ही नहीं, उनके साथ अक्षरा ने एक नयी फिल्‍म ‘सुजानगढ़’ भी साइन की है। इसीलिए उस मीडिया वाले के एक सवाल पर अक्षरा ने तैश में आकर कहा कि यहां कोई किसी का दाता नहीं है।

अक्षरा के इस बयान का अर्थ साफ था कि अगर पवन सिंह ने ये सोचा है कि उनके बिना अक्षरा को कोई काम नहीं देगा तो ये उनकी भूल है। वैसे सबसे बड़ा सच तो ये है कि अक्षरा को फिल्‍में मिल रही हैं, उल्‍टा पवन सिंह को पिछले कई महीनों से फिल्‍म पाने के लिए तरसना पड़ रहा है।

इंडस्‍ट्री के कई लोगों का तो ये कहना है कि पवन सिंह ने अक्षरा से दूर होकर अक्षरा का ही भला किया है। अक्षरा आज पहले के मुकाबले ज्‍यादा खुश हैं। उन्‍हें लोगों की सहानुभूति भी खूब मिली है। सबसे बड़ी बात तो ये कि वो घरेलू हिंसा का शिकार होने से बच गयी हैं। काम भी उनको मिल ही रहा है। एलबम से लेकर फिल्‍मों तक…वो फिलहाल व्‍यस्‍त हैं और मस्‍त हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!